'Relationship Goals' for Juliet ....this Valentine

Feb 12, 2018, 3:31 pm, by: Tarun Jain

रिलेशनशीप को लेकर हमारी जनरेशन कुछ ज्यादा ही परेशान नजर आती है। पार्टनर ने गुस्से में बात की तो मूड खराब। उसने किसी और से हंस कर बात ली तो प्राब्लम। इसके अलावा एक बार में फोन नहीं उठाया तो ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। इन बातों को जब अपने किसी खास दोस्त या फिर किसी चडी-बडी से शेयर करें तो वह कुछ सलाह देने की बजाय रिलेशनशीप को कमजोर करने वाली बाते कर हालात और भी खराब कर देते है। इसके अलावा इंटरनेट पर रिलेशनशीप को स्ट्रांग करने वाले आइडियाज बहुत है।पर जो कुछ सही सलाह देने की बजाय सिर्फ टाइमपास ही नजर आते है। यकीन नहीं आता, तो जाइए और ट्राई करके देखिएं। ऐसी सलाह सिर्फ फिल्मों में दिखाए जा रहे जुमले से अधिक कुछ नहीं जो सिर्फ फिल्मों में अच्छे लगते है। इसलिए मेरी मानें तो रिलेशनशीप के दौरान अपने पार्टनर पर भरोसा करना सीखें। हर बार गलती उसकी नहीं होती। मन में पूर्वाग्रह (प्रिज्यूडिस)पालने से कुछ नहीं होना। इसलिए भरोसा, विश्वास बहुत जरूरी है। यदि फिर भी आपको लगता है कि आपका पार्टनर आपको बिल्कुल सपोर्ट नही कर रहा तो उससे बात करें। मेडिकल साइंस भी तो कहती है कि दिल की बात जुबान पर आने से काफी हेल्प मिलती है। मन का भार कम हो जाता है।

सोशल मीडिया की दुनिया भी अजीब ही दुनिया है। फेसबुक हो या फिर कोई प्लेटफार्म, लगभग सभी जगह पर आपको एक से एक अजीब लोग  मिलेंगे। ऐसा नहीं कि सभी नमूने है, कुछ अच्छे लोग भी मिलते है। लेकिन कभी-कभी यह सोशल मीडिया आपको टेंशन में डाल देती है। फेसबुक पर लड़को की हालत ऐसी होती है कि कोई क्यूट सा चेहरा दिखा नहीं कि फ्रेंड रिकवस्ट सेंड कर दी। रिकवस्ट एक्सेप्ट हो गई तो फिर शुरु हो जाता है, फलर्टिंग का किस्सा। अब उन्हे कौन समझाएं कि हर लड़की बॉयफं्रेड नहीं ढूंढ रही होती। इसलिए लार न टपकाते हुए सिर्फ अपने काम से काम रखें।

वहीं फेसबुक का प्रयोग करने के लिए कुछ लड़कियां अजीब तरीके अपनाती है। उनकी कोशिश होती है उनकी हर फोटो से हर लड़का लाइक करें लेकिन खुद लाइक करने से परहेज करती है। जैसे ही सिर्फ लाइक के लिए यूजर्स की फ्रेंड रिकवेस्ट एक्सेप्ट करती है। एक्सेप्ट करते हुए वे एक बार भी चैक नहीं करती कि जिसको वे एड कर रही है वो एक रियल पर्सन भी है या नहीं।

फ्लर्ट की बात करें तो यहां पर बुजुर्ग भी कम नहीं। फेसबुक के मेसेंजर पर बूढ़े भी इश्क फरमाते हुए आम देखे जा सकते है। ऐसा नहीं कि उनका दिल नहीं होता लेकिन जब उम्र का लिहाज न करते हुए फ्लर्ट करें तो अटपटा लगता ही है। मैं तो सिर्फ इतना ही कहना चाहंूगा कि सोशल मीडिया का प्रयोग करें लेकिन हेल्दी बात करने के लिए न की कोई ऐसा काम करने के लिए जिससे आपको और इमेज को हर्ज हों।